Category : Culture & Education

"जिस गली जाना नहीं उसका पता क्यूँ पूछना"

अभी 10 साल की ही थी और सबकाम कर लेती थीं, भाई को स्कूल छोड़ने जाती तो उसका भी मन करता कि वह भी पढ लें पर माँ बाप दोनों नहीं चाहते...

Read More

ऊंची दुकान फीके पकवान

नानी के घर के सामने एक बहुत ही बड़ा महल जैसा घर था,एकदम बड़ा सा,आलीशान बस उसे देखते ही रहो ऐसा मन करता रहता था, नानी से मैने पूछा नानी...

Read More

अध्यापिका की सीख

मैं बचपन से ही पढ़ने में बहुत होशियार थी। इस बात का मुझ में अहंकार भी था ।मैं चाहती थी , सब मेरी तारीफ करें ,मेरे आगे पीछे घूमें।...

Read More

सफलता के मूल मंत्र

जीवन में हर व्यक्ति सफलता पाने की चाह रखता है और इसके लिए वह कड़ी मेहनत भी करता है। लेकिन हर व्यक्ति को कॅरियर में सफलता नहीं मिलती

Read More

बच्चो के व्यक्तितव को कैसे निखारे

हर मां-बाप अपने बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए सपने देखते हैं। इसके लिए वे जितना संभव हो सकता है, उतनी सुविधाएं बच्चों को देते हैं।...

Read More

मार्गदर्शक ही बनें कल्पवृक्ष नहीं

बच्चे अपने माँ बाप की परछाई होते हैं वो जाने अनजाने उन्हीं का व्यवहार अपने जीवन मे उतारने का प्रयास भी करते है।इसलिए स्वयं के व्यवहार...

Read More

मेरे पापा मेरा अभिमान

जब में एक साल की थी अचानक मेरी तबियत बिगड़ी थी। मुझे के् ई एम हास्पीटल भर्ती कराया गया था। डांक्टर ने  मुझेआईसीयू में रखा था। मम्मी...

Read More

मुझे अपने पिता पर गर्व है

हमें मां की तरह पिता का प्‍यार दिखाई नहीं देता, लेकिन पिता ही ऐसा शख्‍स है जो हमें दुनिया में अच्‍छे बुरे का एहसास करवाता है। वह पिता...

Read More

बच्चों के हीरो का बदला स्वरूप.....

कल जंहा पिता अपने प्यार दुलार को बच्चे पर प्रत्यक्ष रूप से ना लुटा कर मन में छुपा कर रखते थे... वही आज के पापा बच्चो से प्यार जताते...

Read More

किसान का बेटा

मैं बहुत छोटा था तो अपने पिता को खेतों में मेहनत करते देखता था मेरे बाबा सिर्फ आंठवी  तक पढ़े थे क्योंकि उस समय  गांव में स्कूल नहीं...

Read More