पेट्रोल डीज़ल के बढ़ते दाम का असर

पेट्रोल डीज़ल के बढ़ते दाम का असर

आज जहाँ करोना और लाॅक डाउन की वजह से पहले ही आम इंसान की हालत खस्ता है, ऐसे में मंहगाई और हर चीज़ों के बढते दाम और कालाबाजारी ने लोगों की कमर तोड़ दी है। खासकर पेट्रोल डिज़ल के भाव आसमान छू रहे है आज हर कोई टू व्हीलर या फोर व्हीलर पर निर्भर है कहीं भी जाना हो तो वाहन के बिना चलता ही नहीं।

ऐसे में देशभर में पेट्रोल का भाव 100 रुपये प्रति लीटर के पार जा चुका है। पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों में इजाफे की वजह से आम आदमी की जेब पर सीधे असर पड़ता है। डीज़ल के दाम में बढ़ोतरी का मतलब महंगाई में इजाफा होना भी है। महामारी की वजह से पहले ही महंगाई की मार झेल रही जनता को और परेशान होना पड़ रहा है।

एक तरफ़ कई लोगों की नौकरी चली गई है रोजगार मिल नहीं रहे ऐसे में इतने खर्चे लोग कहाँ से उठाएँगे। महंगाई बढ़ रही है आय बढ़ना तो दूर किसी किसीकी तो नौकरी भी चली गई है।

अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल की बढ़ती कीमतों के बाद तेल कंपनियों के लिए कोई दूसरा विकल्‍प नहीं दिख रहा है। दूसरी ओर, पेट्रोल-डीज़ल के दाम में भारी भरकम टैक्‍स की वजह से कीमतें इस स्‍तर पर हैं। पेट्रोल-डीज़ल पर केंद्र सरकार एक्‍साइज ड्यूटी वसलती है तो वहीं राज्‍य सरकारें भी वैट और सेस वसूलती हैं।

ये वैट और सेस ही राज्‍यों की कमाई का एक बड़ा हिस्‍सा है, पर आम इंसान की कमाई का क्या?

आय के सामने महंगाई दस गुना हो वहाँ एडजस्टमेंट भी कोई कितना करें। महामारी की वजह से जहाँ पूरे देश की आर्थिक स्थिति बेहाल है ऐसे में सबसे ज़्यादा मध्यमवर्गीय परिवारों की हालत बुरी है। घरेलू गैस और पेट्रोल के बढ़ते दामों का असर आम आदमी की जेब पर सीधे तौर पर पड़ रहा है, जबकि डीज़ल के बढ़ते दामों का असर अप्रत्यक्ष रूप से पड़ रहा है। डीज़ल के दाम बढ़ने से सब्जी और फलों के दाम बढ़ रहे हैं क्योंकि उनको ढोने का ख़र्च बढ़ रहा है। कुल मिलाकर इन सारी चीज़ों का असर आम आदमी की जेबों पर ही पड़ रहा है।

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0