केटेगरी : Pink Wall

आ गया फागुन

पांव थिरक उठे खुदबाज उठे ढोल - मृदंगहवाएं लेकर आई धुनआ गया फागुन।प्रीतम की थी जोप्यासी अंखियांबाट...

और पढ़ें

एक महान लेखिका मन्नू भंडारी

हिंदी साहित्य में एक से बढ़कर एक लेखिका हुई हैं जिनकी लेखनी ने कोरे पन्नों पर जीवंत समां बाँधा है । आज हम जिस लेखिका की बात कर रहे हैं वह एक सुप्रसिद्ध कहानीकार हैं और उनका नाम है 'मनु भंडारी' ...

और पढ़ें

बेहतर ज़िंदगी के लिए पापड़ तो बेलने ही पड़ते हैं

आपने यह मुहावरा तो सुना ही होगा 'पापड़ बेलना'  जी हाँ…... जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए बहुत पापड़ बेलने पड़ते हैं । ज्योति नाईक ने यह सिद्ध...

और पढ़ें

सुधा मूर्ति, मेरी मनपसंद लेखिका

कई भाषाओं में अनेकों किताब लिख चुकीं सुधा मूर्ति ना सिर्फ एक लेखिका है बल्कि अपने सामाजिक कार्य के लिए भी बखूबी जानी जाती हैं। सुधा मूर्ति का जन्म 19 अगस्त 1950 में कर्नाटका में हुआ था। बचपन से ही पढ़ने लिखने में तल्लीन...

और पढ़ें

महादेवी वर्मामेरी पसंदीदा लेखिका

#इतिहास के पन्न्नो पर मेरी पसंदीदा लेखिका   महादेवी वर्मामहादेवी वर्मा (26 मार्च, 1907-11 सितंबर, 1987) हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से हैं। वे हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के...

और पढ़ें

मेरी प्रिय लेखिका - महादेवी वर्मा

महादेवी वर्मा मेरी प्रिय लेखिकाओं में से एक है। महादेवी जी का जन्म 26 मार्च 1907 को फर्रुखाबाद उत्तर प्रदेश भारत में...

और पढ़ें

सुभद्रा कुमारी चौहान

subhadra kumari chauhan. सुभद्रा कुमारी चौहान "बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,खूब लड़ी...

और पढ़ें

सुधा मूर्ति जिन्होंने पढ़ने के लिए किया था तीन शर्तों का...

जिन्दगी एक इम्तिहान है, जिसका पाठ्यक्रम पता नहीं होता और जिसके सवाल भी तय नहीं होते न कोई मॉडल पेपर होता है” ये बात सूधा मूर्ति के द्वारा कही गई है, सुधा मूर्ति जिन्होनें अपनी सादगी और समझदारी के बल पर सफलता हासिल...

और पढ़ें

कवयित्री लेखिका व स्वतन्त्रता सेनानी मेरी प्रिय लेखिका...

बुझा दीप झाँसी का जब डलहौजी मन में हरषाया, राज्य हड़प करने का उसने यह अच्छा अवसर पाया, फ़ौरन फौजें भेज दुर्ग पर अपना झंडा फहराया, लावारिस का वारिस बनकर...

और पढ़ें

सौम्य और आकर्षक व्यक्तित्व की धनी-मृदुला गर्ग जी

"औरतों को हमेशा ही बस एक जिस्म और एक चीज़ की तरह देखा जाता रहा है, पर औरतें किसी मर्द के लिए, अपने पति के लिए ऐसा नहीं सोच सकती। शायद इसीलिए सब इतने क्रोधित हो गये।" यह वक्तव्य है प्रसिद्ध लेखिका मृदुला गर्ग जी का उनके बहुचर्चित...

और पढ़ें