केटेगरी : Pink Wall

मेरी मन पसंद लेखिका मन्नू भंडारी

इतिहास के पन्नों से मेरी मनपसंद लेखिका हैं.. "मन्नू भंडारी" मन्नू भंडारी जी का नाम महत्वपूर्ण लेखिका के रूप में भी लिया जाता है। मन्नू भंडारी जी के बचपन का नाम महेन्द्र कुमारी था लेकिन लेखन में आने के बाद उन्होंने अपने लिए मन्नू...

और पढ़ें

आधुनिक काल की मीराबाई " महादेवी वर्मा "

#इतिहास के पन्नों से मेरी मनपसंद लेखिका   आधुनिक काल की मीराबाई " महादेवी वर्मा " कवि या लेखक बनाए नहीं जाते हैं। यह तो उनमें जन्मजात गुण होते हैं । इसकी प्रतिभा उनपर बचपन से ही फलती फूलती है ।इस लेखन प्रतिभा...

और पढ़ें

ओजस्वी सुभद्रा जी मेरी नज़र से

शान्त सौम्य मुखमंडल और चारित्रिक विशेषताओं की धनी सुभद्रा जी ने अपनी लेखनी से ज्यादा प्रभावित अपनी विचारधारा से किया है मुझे उनकी देशप्रेम की भावना एक जागृती का संचार कर देती है लहू में वीरों का कैसा हो वसंत की पंक्तियाँ देखिये- ...

और पढ़ें

कृष्णा सोबती- भारतीय हिंदी साहित्य की सशक्त हस्ताक्षर

हिंदी साहित्य की सशक्त हस्ताक्षर कृष्णा सोबती जी का जन्म गुजरात में 18 जनवरी 1925 को हुआ था। विभाजन के बाद गुजरात का यह क्षेत्र पाकिस्तान में चला गया और उसके बाद वह दिल्ली आकर बस गई। दिल्ली को उन्होंने अपनी कर्मभूमि बनाया...

और पढ़ें

मन्नू भंडारी एक श्रेष्ठ लेखिका

हमारे भारत वर्ष में अनेक लेखिकाओं ने अपने श्रेष्ठ  रचनाओं के आधार पर अपनी छाप छोड़ी है, किसी एक के बारे में कुछ कहना वैसे तो बहुत कठिन है, क्योंकि सभी अपने आप मे श्रेष्ठ है जिनकी आपस मे तुलना करना उनकी उपलब्धियों पर प्रश्न...

और पढ़ें

भारत की पहली सत्याग्रही महिला सुभद्रा कुमारी चौहान

सुभद्रा कुमारी चौहान सरल,सहज व राष्ट्र भक्ति से ओत-प्रोत हिन्दी की सुप्रसिद्ध कवयित्री व लेखिका थी।वह प्रथम महिला थी ,जो 'गांधी जी' के सत्याग्रह  आंदोलन में शामिल थी।राष्ट्रीय चेतना की सजग कवयित्री...

और पढ़ें

इतिहास के पन्नों से मेरी मनपसंद लेखिका "मीराबाई"

भक्ति काल के स्वर्ण युग में जन्मी कवियत्री मीराबाई।  मेरे तो गिरधर गोपाल दूसरो न कोई |जाके सिर मोर मुकुट मेरो पति सोई || मीराबाई के यह पद पढ़ते हुए हम जैसे गोकुल और वृंदावन ही पहुंच जाते हैं | उनके इस मनोहारी...

और पढ़ें

सुभद्रा कुमारी चौहान - एक क्रांतिकारी कवयित्री

# इतिहास के पन्नों से मेरी मनपसंद लेखिका आज हम बात करेंगे सुभद्रा कुमारी चौहान जी की जो एक हिंदी की प्रसिद्ध लेखिका और कवित्री थी। इनका जन्म 16 अगस्त 1904 में इलाहाबाद के निकट निहालपुर नामक गांव में रामनाथसिंह के जमींदार...

और पढ़ें

हिन्दी के विशाल मन्दिर की सरस्वती- महादेवी वर्मा

महादेवी वर्मा हिन्दी साहित्य की एक महान कवयित्रि और एक विख्यात लेखिका थी। कवि निराला  ने उन्हे हिन्दी के विशाल मन्दिर की सरस्वती भी कहा है। इन्हे 'आधुनिक मीरा' भी कहा गया है, क्योकिं इनकी कविताओ में प्रेमी से विरह की पीडा़...

और पढ़ें