Anamika Anu

Anamika Anu

 9 months ago

स्वतंत्र लेखिका

Member since Mar 30, 2020

जाते हुए वर्ष नव वर्ष को यह संदेश देते जाना

दिसंबर 2019 की आखिरी रात थी। नये वर्ष के स्वागत के लिए सभी पटाखो का पिटारा लिए छतों पर पहुंच रहे थे। कुछ रजाई में दुबके टीवी की स्क्रीन...

और पढ़ें

अधिकारों की पाठशाला भी जरूरी है

उन महिलाओं पर बड़ा तरस आता है जो अपने ही घर की औरतों पर हुए ग़लत व्यवहार पर उस औरत का साथ देने की बजाए उसके विरोध में खड़ी हो जाती...

और पढ़ें

शुभ वेला

हिन्दी दिवस की शुभ वेला थी। मीनाक्षी बड़ी तत्परता से प्रमाण पत्र तैयार कर रही थी। आज शाम को ही उनके स्कूल प्रांगण में छोटा सा समारोह...

और पढ़ें

सौम्य और आकर्षक व्यक्तित्व की धनी-मृदुला...

मृदुला जी से मेरा प्रथम परिचय उनके लिखे प्रथम उपन्यास "उसके हिस्से की धूप" पढ़ने से हुआ। त्रिकोणात्मक प्रेम पर लिखा यह उपन्यास प्रेम...

और पढ़ें

मेरी पसंदीदा किताब मन्नू भंडारी रचित आपका...

वैसे तो सबसे पहली और पसंदीदा किताबों में मुझे प्री प्राइमरी क्लास की पुस्तकें बेहद पसंद है जिनमें बड़े ही कलात्मक ढंग से अक्षरों,...

और पढ़ें

पूत ही हमेशा कपूत नहीं होते

समाज की एकतरफा सोच का करारा जवाब

और पढ़ें

ईमली की तलब और खुशियाँ

अरे कविता, यह कैरियाँ कहाँ गई?सारी रसोई छान मारी,मिल ही नहीं रही।"  "जी माँ जी..ये रही यहाँ.. वो फ्रीज़ से निकाल कर रख दी थी।आपने सुबह...

और पढ़ें

कंधे तो तुम्हारे भी थके होंगे

क्या है यह सब?बोला था मम्मी से बिल्कुल हल्के कपड़े बनवाएंं मेरे लिये।पर नहीं उन्हें तो सुनना ही नहीं है।बस मुझसे ज्यादा मेरे ससुराल...

और पढ़ें

खुशियों की महक

अमर इधर से उधर चहलकदमी कर रहा था| कदमों की आवाज उसकी बेचैनी को स्पष्ट बयान कर रही थी| वह चलता रुकता अपनी हथेलियों को रगड़ता और फिर...

और पढ़ें