Deepika Raj Solanki

Deepika Raj Solanki

 8 months ago

एक ग्रहणी ,एक मां के बाद ,एक लेखिका हूं,

Member since Apr 18, 2020

फिर कोई लड़का बिकने आया है

पड़ोस में आज कोई, लड़की देखने आया हैं, साथ में बड़ी सी गाड़ी भी लाया हैं, आज फिर कोई लड़का बिकने आया हैं।

और पढ़ें

पास्ता राजमा

एक बार इस पास्ता और राजमा का कॉन्बिनेशन बनाकर अवश्य देखें बच्चे पास्ता का नाम सुनकर इसे अवश्य खाएंगे और उन्हें भरपूर मात्रा में प्रोटीन...

और पढ़ें

दादी के पास हर प्रश्न का जवाब है।

चेहरे की झुर्रियों में छिपा, जिंदगी का सार है,  दादी के पास हर प्रश्न का ज़वाब है, बालों की सफेदी में छुपा तज़ुर्बे का भंडार है, सुनाती...

और पढ़ें

नारी की कहानी नदी की ज़ुबानी

नारी और नदी की एक ही है कहानी, प्रकृति की हैं जो सुंदर निशानी, अविरल धारा -सी ही बहती है नारी की भी जिंदगानी, छोड़ो अपने उद्गम को,...

और पढ़ें

गुलाबी मंच के लिए गुलाबी पैग़ाम

प्रिय ,मंच"द पिंक कॉमरेड" सादर नमन। " क्या लिखूं, क्या ना लिखूं। अपने जज्बातों को तेरे लिए कैसे बयां करूं, जिसने दी मुझे पहचान, उसका...

और पढ़ें

सत्य परेशान हो सकता है पराजित नहीं

आज मैं अपनी कहानी आप लोगों के साथ साझा कर रही हूं शायद मेरी इस कहानी से कई महिलाओं को शक्ति मिले,अक्सर लोग कहते हैं कि अपनी परेशानियां...

और पढ़ें

पंचसागी कढ़ी

सर्दियों का मौसम दस्तक दे चुका है, सब्जी वालों के ठेलों में कई तरह के साग अपनी हरियाली बिखेर रहे हैं, आमतौर पर हम साग की सब्जी बनाकर...

और पढ़ें

सिसकियों की दास्तां

कलाइयों की टूटी चूड़ियां आंखों को घेरे  काली लकीरों के घेरे, बदन पे पड़ी कई बर्बरता की निशानियां, रात के अंधेरे को चीरती वो सिसकियां,...

और पढ़ें

पिन्हा कर दिए अपने एहसास

पिन्हा में रखे थे एहसास कुछ, अक्सर झांकते हैंजो दिल- ए- चिलमन से, आज आगोश में आ गिरे और पूछ रहे हैं कई सवाल, कोई फरमाइश नहीं थी और...

और पढ़ें