prachi chaturvedi

prachi chaturvedi

 3 years ago

a reader and story writer.

Member since Jun 15, 2020

Following (1)

Followers (1)

अहसास प्यार का

पन्द्रह -सोलह बरस ,उम्र का वो पड़ाव होता है जिसमें मन में ना जाने कितने प्रकार की तरंगे उठती है,

और पढ़ें

कड़ी

"राघव, अब तो अनलॉक हो गया है, अब तुम मुझे घर छोड़ आओ।"  "पापा, कैसी बात कर रहे है आप? अकेले कैसे रहेगे? परेशान हो जायेगे। यहाँ रहने...

और पढ़ें

भाषा प्रेम की

लीजिये मैडम ,आ गया आपका बैंक।" शालिनी को 'बैंक' के गेट पर उतारते हुये राहुल बोला, "टाइम से फोन कर देना, लेने आ जाऊँगा।"  "सॉरी यार...

और पढ़ें

जीवनदाता एक शाम डॉक्टर्स के नाम

वैभव की माँ आज बहुत खुश थी। करीब -करीब एक महीने बाद वैभव आज घर आ रहा था।  जब से' कोरोना' संक्रमण देश में आया है  तब से डॉक्टर्स और...

और पढ़ें

पुन:कन्यादान

तेजस्वनी जी गहन विचार में डूबी हुयी किसी के आने का इंतजार कर रही थी कि अचानक से एक पहचानी सी आवाज़ ने उनका ध्यान भंग   कर  दिया, "नमस्ते...

और पढ़ें

मायका

सुबह सुबह फोन की रिंग से गार्गी चौंक गयी।इतनी सुबह तो बस माँ फोन करती थी पर पिछले आठ महीनो में, उनके चले जाने से ये सिलसिला टूट ही...

और पढ़ें

अवसाद और हम

नमस्कार दोस्तो।आज सुबह  एक करीबी से पता चला कि उनके जानकार ने आत्महत्या कर ली, बच्चे बहुत छोटे है और पत्नी की उम्र का अंदाज़ा हम लगा...

और पढ़ें