Pushpa Srivastava

Pushpa Srivastava

 2 years ago

I'm a homemaker & a mother of two childrens. Writing stories and poems are my hobbies ♥️.

Member since May 20, 2020

मेरी पहली होली

आज होली है। माँ, चाची व भाभीयां तो होली की तैयारी काफी दिन पहले से ही शुरु कर देती हैं। संयुक्त परिवार है तो इतने लोगों के लिए डेली...

और पढ़ें

होली के रंग खुशियों के संग

विनी घर की छोटी लाडली बहू शादी के बाद कुछ दिन तो अपनी ससुराल में रही पर जल्दी ही पति सौरभ के साथ उसकी पोस्टिंग वाले शहर में आ गई।...

और पढ़ें

दिखावा

देखो न करो तुम अब ये दिखावा छोड़ भी दो तुम अब ये सारा छलावा पुरुष हो, पुरुषत्व का कुछ तो मान रखो अपनी मान मर्यादा का कुछ तो ख्याल...

और पढ़ें

दिल का लुटेरा

मेरी सुबह भी तू मेरी शाम भी है तू तन ही नहीं मेरा अब ये मन भी हो गया है तेरा बता ! तू मेरा पिया है या मेरे दिल का कोई लुटेरा।

और पढ़ें

वो गोल - गोल प्यारे बेसन के लड्डू

हमारे हर एक की जिंदगी में यादों के खजाने में बहुत सारी अनगिनत यादें छुपी हुई रहती हैं। उनमें से कुछ यादें ऐसी होती हैं जो हमारी जिंदगी...

और पढ़ें

हौसलों की उड़ान

बहुत खराब लग रहा है कि तुम इस बार हर बार की तरह ढेर सारी खुशियां लेकर नहीं आए हमारी जिंदगी में।बल्कि इस साल तो तुम हम सभी के लिए आगे...

और पढ़ें

लाडले जमाई राजा

मेरे साजन का व्यवहार मुझसे एकदम विपरीत है। मैं इमोशनल व बात बात पर आंसू बहाने वाली। वहीं मेरे साजन धीर गंभीर व्यावहारिकता के धनी।

और पढ़ें

साबूदाना व फूल मखाने की खीर

नवरात्रि में नौ रातों में सब तरफ श्रद्धा व भक्ति का ही माहौल छाया रहता है। ये ही वे दिन - रात होते हैं जब हम अपने इष्ट देव को अपनी...

और पढ़ें

सजती हूँ पिया तुम्हारे लिए मेराश्रृंगार

करवा चौथ का दिन तो हम पत्नियों के लिए होता ही बहुत खास है। उस दिन हमारे लिए खास मौका होता है निखार व श्रंगार का। मैं भी आप सभी की...

और पढ़ें

धरा की केंद्रबिंदु तुम ही तो हो

सूर्य की लालिमा हो तुम बनकर सुबह की पहली किरण उजली भोर जैसी तुम इस जग की रोशनी तुम ही तो हो स्त्री तेरे रूप हैं अनेक सबका आधार तुम...

और पढ़ें