Saroj Pawan

Saroj Pawan

 2 years ago

Member since Mar 19, 2020

पापा की जादूगरी

करिश्मा एक कामकाजी लड़की थी। उसकी शादी को 2 महीने ही हुए थे। घर में पति विशाल के अलावा सास ससुर भी रहते थे। उसकी सास सुमित्रा‌ एक...

और पढ़ें

मेरे पापा असली हीरो हैं

वीरसिंह कुम्हार हरियाणा -  दिल्ली बॉर्डर से सटे एक छोटे से गांव में अपनी मां,पत्नी व बेटे सोहित के साथ रहता था। पिता की आसमयिक मृत्यु...

और पढ़ें

रंग की काली हूं मन की नहीं

आज लक्ष्मी को लड़के वाले देखने आ रहे थे। घर में चिंता का माहौल था कि इस बार भी लड़के वाले उसे पसंद करेंगे या नहीं। ऐसा नहीं कि उसमें...

और पढ़ें

मैं सबसे अलग हूं

तीसरी कक्षा में लखन का एडमिशन जब मेरी क्लास में हुआ तो मुझे देखने में वह कुछ असामान्य सा लगा। कक्षा के सभी बच्चों से कद काठी में वह...

और पढ़ें

गोद लिया बेटा

भूषण को जब कुमार ने उसके मामा बनने की खबर दी तो उसकी खुशी का ठिकाना ना रहा। थोड़ी देर में ही वह अपनी पत्नी सुनीता के साथ अपनी बहन...

और पढ़ें

बहु इन दिनों पति से बोलना नहीं है

एकल परिवार में रही सीमा की शादी संयुक्त परिवार में हुई। ससुराल में सास ससुर के अलावा जेठ जेठानी भी थे, भरा पूरा परिवार था। सीमा एक...

और पढ़ें

कुछ घंटों का सफर

यह घटना लगभग 16 -17 साल पहले की है। मैं अपनी मौसी से मिलने पहली बार अकेली गई थी। लौटते हुए समय ज्यादा हो गया और जल्दबाजी में मैंने...

और पढ़ें

वो दहशत भरा सफर

अपने एक मित्र को एयरपोर्ट छोड़ पंकज जैसे ही बाहर निकला तो धुंध काफी बढ़ गई थी। इसलिए उसने अपनी कार की स्पीड कम ही रखी । अभी वह कुछ...

और पढ़ें

यह खुशबू करती है रिश्तों की डोर मजबूत

शुरू से ही मेरी यह जिज्ञासा का विषय रहा है कि नवजात शिशु व 2-3 महीने का बच्चा अनेक महिलाओं के बीच अपनी मां को कैसे पहचान लेता है।...

और पढ़ें

मेरी पहली रोचक अविस्मरणीय यात्रा (राजस्थान)

मैं दिल्ली की रहने वाली हूं और मेरे सभी रिश्तेदार भी दिल्ली में ही रहते हैं। तो कभी ट्रेन में सफर करने का अवसर ही ना मिला। जब मैं...

और पढ़ें