Saroj Pawan

Saroj Pawan

 2 years ago

Member since Mar 19, 2020

तुम्हारे प्यार से महकता मेरा जीवन

कॉफी, किताब से नहीं.. तुम्हारे प्रेम से महकता है मेरा जीवन संडे का दिन, दिसंबर की सुहावनी सुबह, बालकनी में खिले गेंदों की फूलों की...

और पढ़ें

छोटी सी भेंट

मानवी के ऑफिस मे कल रूस से एक डेलिगेशन आ रहा था। ऑफिस वालों ने 7 लोगों को उस डेलिगेशन को अटेंड करने की जिम्मेदारी दी थी। यह लोग इंडिया...

और पढ़ें

ममता की छांव

सरला जी की 2 बेटियां थी। पति की असमय मृत्यु के बाद उन्होंने दोनों बेटियों को बेटों की तरह पाला। दोनों को शिक्षित कर अपने पैरों पर...

और पढ़ें

अधूरी उडान

आज क्लास में आते हैं दिशा को बैठा देख मुझे गुस्सा आ गया। जब से वह चौथी कक्षा में आई है ,लगातार एब्सेंट हो रही है। कितनी बार उसे समझाया...

और पढ़ें

हमारी बहू, बेटी से बढ़कर है

सुभाष जी ने अपनी बहन को फोन कर बताया कि “दीदी आपके छोटे भतीजे के लिए लड़की देख ली है। परसों रिश्ता पक्का करने जाएंगे तो आप और जीजाजी...

और पढ़ें

माथे की बिंदिया

अजीत जी का परिवार एक खुशहाल परिवार था। दो बेटे उनकी बहू है और पोता पोती। तीनों बाप बेटा अपना मिलकर कारोबार संभालते थे और उनकी धर्मपत्नी...

और पढ़ें

बहू हमारे यहां पैर छूते नहीं, दबाते हैं...

मनीषा और अभिषेक के जीवन का आज सबसे बड़ा दिन था। उनकी 3 वर्षों की दोस्ती जो आज परिणय सूत्र में बंधने जा रही थी। आज के लिए दोनों को...

और पढ़ें

दोहरा खर्चा क्यों समधी जी!

रमा व उमा दोनों बहनों की शादी एक ही घर में तय हुई। उनके ससुर जी ने शादी से पहले ही उनके पापा को कह दिया था कि शादी में ज्यादा तामझाम...

और पढ़ें