Shruti Tripathi

Shruti Tripathi

 5 hours ago

मेरी कहानियाँ ही मेरी पहचान है

Member since Mar 4, 2020 [email protected]

अंडे सेवे कोई, बच्चे लेवे कोई

अंडे से वे कोई, बच्चे लेवे कोई,  ये कहावत तो सुनी होगी आप लोगो ने मतलब, मेहनत करे कोई और फल ले जाये कोई | सीमा के जीवन में ये कहानी...

Read More

हम तो उडती चिड़िया के पर गिन लेते है

हमे तो सब समझ आ जाता है एक तरह से दादी का तकिया कलाम हो गया था "उडती चिड़िया के पर गिनना" सलोनी को कभी तो बहुत गुस्सा आता था कभी बहुत...

Read More

आग लगा के जमालो दूर खडी़

बहनजी बिचारी बहुत सीधी थी पूरे मौहल्ले के सामने गाय बनती थी पर सच्चाई सब जानते थे कि अपने घर पर शेरनी बनकर रहती थी दोनों बच्चे थे...

Read More

बेपनाह मोहब्बत

हमने उसको अपना समझा,  अपने से ज्यादा यकीन कर बैठे,  खेल गया जालिम हमारे ज़ज्बातों से अपनी मोहब्बत से किसी और को सज़ाया

Read More

पी. सी. ओ. डी , से न घबराना.......

उसकी मम्मी भी परेशान रहने लगी ये रीना के साथ क्या हो रहा है | रीना अब कालेज में जाने लगी लेकिन उसकी समस्या वही की वही थी|

Read More

मम्मी जी आप रिटायर नहीं हुयी है

निशा जी के पति एक अच्छे पद से रिटायर्ड हुये जब उनके पति नौकरी में  थे तब निशा जी बहुत एक्टिव थी बहुत से उत्सवों में बढ़ चढ़ कर हिस्सा...

Read More

गुड़ सौठ के लडडू

सौठ के लड्डू जच्चा के लिए भी लाभदायक होते है। हड्डी में दर्द होने पर भी फायदे मंद है।

Read More

मठे के आलू रेसिपी

मेरा शहर इस सब्ज़ी के लिए मशहूर है अगर हमारे शहर में दावत है किसी भी तरह की और अगर  आपने ये सब्ज़ी नहीं खिलायी तो समझिये आपने कुछ...

Read More

किसान का बेटा

मैं बहुत छोटा था तो अपने पिता को खेतों में मेहनत करते देखता था मेरे बाबा सिर्फ आंठवी  तक पढ़े थे क्योंकि उस समय  गांव में स्कूल नहीं...

Read More

मेरे पापा, मेरे हीरो

मेरे पापा मेरे हीरो" सभी बच्चों के लिए उनके पापा हीरो होते है मेरे बच्चों के लिए भी उनके पापा किसी हीरो से कम नहीं है | मेरे पापा ...

Read More