Vaani Bhardwaj

Vaani Bhardwaj

 2 years ago

Member since Feb 29, 2020

मैं पूछूं तो साला करैक्टर ढीला है !

चलिए अब बच्चों को थोड़ा अकेले में बात करने छोड़ देते है , इन दोनों को ही फैसला करना है। अपनी चाय का आखिरी घूंट भरते हुए श्यामनन्द जी...

और पढ़ें

पैड को छुपाना कैसा ?

मांसी ये क्या है पैकेट में , ओह्ह जल्दी जल्दी में कैसे भूल गयी गयी मैं ये पैड्स का पैकेट ! ऑफिस का टाइम हो रहा था , रूहानी ने जैसे...

और पढ़ें

सबकी माँ - सिने-माँ

हर माँ अपने आप में खास है , इस बात की ताकीद करता ये छोटा सा लेखन, हम सभी को मौका देता हैं के हम अपनी माँ के साथ बैठकर कुछ कहानियां...

और पढ़ें

कंजक पूजा और कन्या को हो जाये पीरियड्स !

माता की पूजा  के आठ दिन पूरे हुए और आया कंजक पूजा का दिन। हमेशा की तरह मैं सुबह ६ बजे नहाकर तैयार अपने घर की बालकनी में खड़ी हो गयी।...

और पढ़ें

कहीं मैं मर गयी तो ?

१४ साल की उम्र और नौवीं कक्षा में वो भूगोल की क्लास मैं शायद कभी नहीं भूल पाउंगी। ब्लैकबोर्ड पर दुनिया का मानचित्र बन रहा था और मेरे...

और पढ़ें

एक खत बिटिया के ससुर जी के नाम

नाज़ों से पली मेरी गुड़िया आज से आपके परिवार का हिस्सा कहलाएगी। थपक-थपक पहली बार जब धीमी गति से चलकर लड़खड़ाती हुई वो मेरे गले लगी थी...

और पढ़ें

5 important Life Lessons to be learnt from...

There is positivity in every negativity and we must have that attitude to see the best even in the worst. Under this following are...

और पढ़ें