रोमांटिक फिल्मों का जादूगर

रोमांटिक फिल्मों का जादूगर

रोमांटिक फिल्मो के जादूगर और हर दिल मे प्यार जगाने वाले आदित्य चोपड़ा ने बहुत कम समय मे बॉलीवुड मे अपनी पहचान बना ली है।वे प्रख्यात फिल्म निर्माता-निर्देशक यश चोपड़ा जिन्हें लव-स्टोरी स्पेशलिस्ट भी कहा जाता है, के बड़े बेटे हैं। आदित्य चोपड़ा यश राज फिल्म्स के वाइस प्रेजिडेंट भी हैं। वे एक भारतीय फिल्म निर्देशक, लेखक और निर्माता हैं।हम कह सकते है वे मल्टीटैलेंटेड है।


उनका जन्म 21 मई 1971 को मुंबई में हुआ था। आदित्य बचपन से ही काफी शर्मीले स्वाभाव के थे, और हिंदी फिल्म निर्देशन में रूचि लेने लगे थे। शर्मीले स्वभाव की वजह से आदित्य मीडिया से बहुत कम इंटरैक्ट करते है।इन्होने अपनी शुरूआती पढाई बॉम्बे स्कॉटिश स्कूल से की और अपना ग्रेजुएशन रिझुमल कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स से पूरा किया। इनका व्यक्तिगत जीवन थोडा कंट्रोभर्शियल रहा।इन्होने दो शादियाँ की। उनकी पहली शादी पायल खन्ना से से हुई थी,जो किन्ही कारणों से 2009 में टूट गयी। इसके बाद साल 2014 में आदित्य फेमस एक्ट्रेस रानी मुखर्जी के साथ शादी के बँधन में बँध गए। 



आदित्य चोपड़ा ने अपने करियर की शुरआत महज 18 साल की उम्र में बतौर सहायक निर्देशक कर दी थी। उन्होंने अपने पिता यश चोपड़ा को कई हिट फिल्मों में असिस्ट किया था,चांदनी, डर और लम्हे आदि। पांच सालों तक पिता यश को असिस्ट करने के बाद उन्होंने साल 1995 में फिल्म दिल वाले दुल्हनिया निर्देशित की। इस फिल्म में शाहरुख़ खान और काजोल थे। इस फिल्म का निर्देशन और लेखन आदित्य चोपड़ा ने ही किया था। इस फिल्म का निर्माण यशराज फिल्म्स बैनर के तले किया गया था। यह फिल्म उस साल की सबसे हिट फिल्मों में शुमार हुई थी। इस फिल्म को राष्ट्रीय पुरुस्कार से भी सम्मानित किया गया था। आज भी ये फिल्म और इसके गाने हर दिल पर राज करते है।



आदित्य ने फिल्म निर्देशन के अलावा कई हिट फिल्मों का संवाद लेखन भी किया है। जिसमे फिल्म दिल तो पागल है भी शामिल है। इस फिल्म ने उस साल बॉक्स-ऑफिस पर रिकॉर्ड तोड़ कमाई की थी। साथ ही इस फिल्म को राष्ट्रीय पुरुस्कार से भी सम्मानित किया गया था। इसके बाद उन्होंने फिल्म मोहब्बतें का लेखन और निर्देशन किया। इसी फिल्म से उनके छोटे भाई के बॉलीवुड करियर की शुरुआत करवाई। यह मल्टीस्टारर फिल्म उस साल की सबसे बड़ी ब्लॉक-बस्टर फिल्म साबित हुई थी। फिल्म ने बॉक्स-ऑफिस पर खूब कमाई की थी। उसके बाद उन्होंने अपने भाई को लेकर फिल्म मेरे यार की शादी है बनाई जो बॉक्सऑफिस पर औंधे मुंह गिरी। साल 2004 में यशराज बैनर के तहत कई हिट फिल्मों का निर्माण और निर्देशन हुआ, जिनमे धूम, वीर-जारा जैसी फ़िल्में शामिल थी। इन दोनों फिल्‍मों ने बॉक्स-ऑफिस पर जबरदस्त कमाई की। यह फिल्म उस साल सबसे ज्यादा कमाई करने वाली सातवीं फिल्म साबित हुई थी। 



उसके बाद उन्होंने कई हिट फिल्मों का निर्माण और निर्देशन किया। उनमें से बंटी और बबली, सलाम नमस्ते, फना, धूम 2, चक दे इंडिया। फिल्म चक दे इंडिया देश के राष्ट्रीय खेल हॉकी को समर्पित थी। इस फिल्म में शाहरुख़ खान एक हॉकी कोच की भूमिका में नजर आये थे। इस फिल्म ने बॉक्स-ऑफिस पर काफी अच्छी कमाई साथ ही फिल्म ने राष्ट्रीय पुरस्कार भी अपने नाम किया था। इसके बाद उन्होंने शाहरुख़ खान के साथ फिल्म रब ने बना दी जोड़ी निर्देशित की। इसी फिल्म से अनुष्का शर्मा ने हिंदी सिनेमा में डेब्यू किया था। इस फिल्म ने बॉक्स-ऑफिस पर काफी अच्छी कमाई की थी। अपने जबरदस्त फिल्म निर्देशन और फिल्म निर्माण यशराज बैनर विख्यात है। आदित्य चोपड़ा ने बतौर निर्माता निर्देशक इस हिंदी सीनेमा को कई बेहतरीन फ़िल्में दी है। 


कम उम्र मे ही इन्होने अपने दम पर बहुत कुछ हासिल किया ।आज भी इनकी फिल्मे दिल को छू जाती है।उनकी फिल्मो को देखते रहिए और दिल को जवा बनाए रहिए।



What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0