स्त्रियों की धरोहर

स्त्रियों की धरोहर

कहते हैं लोग कि स्त्रियों की धरोहर होती क्या है? चलो आज हम कुछ इस बारे में बात करें और कुछ रखे अपने विचार, अगर हो सके तो थोड़ा साथ देना साथियों ये इल्तिजा है मेरी|                          

क्या स्त्रियों की धरोहर रूपया, पैसा, गहने होते है नहीं ना, स्त्रियों की धरोहर होती है वो जो वो सीखती है अपने बड़ों से जैसे माँ, सास, बहन आदि उन सबसे सीखती है|                                   

किसी से सीखती है वो पाक कला, तो किसी से सिलाई कढ़ाई, तो किसी से नक्काशी, तो किसी से सीखती है मोतियों की माला बनाना, तो किसी से नृत्य सीखती है, तो किसी से पेंटिंग सीखती है, तो किसी से लोक गीत आदि सीखती है|                

वो सीखती है अपनी पहचान के लिये, अपने अस्तित्व के लिए, कि उसका भी कोई वजूद है,  ये एक तरह का श्रृंगार ही होता है, जो हम सबको विरासत में मिला होता है, बस पहचानना हमारा काम है|                                             

जितना हम अपने बड़े बुजुर्गों के साथ रहेंगे उतना ही हम उनके करीब रहेंगे, और सीखेंगे हम अपनी संस्कृति, अपनी आभा, अपनी जमीनी हकीकत, जो आज लुप्त होती जा रही है लोगों के बीच में, तो चलो आज हम एक नई पहल करते है और अपनी धरोहर से पहचान करवाते है |                

# श्रृंगार रस- रति                           

# नवरस क्वीन

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0