स्वरों की मल्लिका आशा भोसले जी - Editorial Desk

स्वरों की मल्लिका आशा भोसले जी - Editorial Desk

स्वरों की मल्लिका आशा भोसले जी बेहद प्रतिभाशाली सिंगर और देश की शान है, उनकी आवाज़ का जादू पूरे भारत में फैला हुआ है, उन्होंने क्लासिक से लेके पॉप तक सारे गाने गाए हैं. उन्होंने अपने जीवन में बहुत से अवॉर्ड्स और पुरस्कार जीतें,आशा जी ने अपने जीवन में 11,००० से अधिक गाने गाएं हैं.न सिर्फ भारत में बल्कि विदेश में भी अपनी आवाज़ से मिठास बिखेरा है.


आशा भोसले भारत की बहुत ही अनोखी और बहुमुखी गायिका है, उन्होंने अपने मस्तीभरे गानों से आज के युवा को भी उतना ही खुश किया जितना कि गुज़रे ज़माने के युवाओं को किया था.आशा भोसले ने तो उनकी आवाज़ से हर बार ही खुशियाँ ही खुशियाँ लायी है, जब लता दीदी उनकी बहन हर आशिक़ की दिल मे फूल खिला देती थी तब आशा उस युग के युवा के लिए वे मस्त मौला गाने गाकर थिरकने पर मजबूर कर देती थी.


उनके एक से बढ़ कर एक ब्लॉकबस्टर गाने से भारतीय सिनेमा चमक उठा है,आशा जी के फैंस उनके बारे में ज़्यादा से ज़्यादा जानना पसंद करेंगे.तो चलिए आपको बताते हैं आशा भोसले जी के बारे में कुछ रोचक मज़ेदार

बातें.


•आशा भोसले पहली महिला भारतीय सिंगर है जो ग्रैमी पुरस्कार के लिए नॉमिनेट हुईं.


•आशा जी कहती हैं "मैं मजे करती हूं मुझे लगता हैं जिंदगी को इतनी गंभीरता से लेने की जरुरत नहीं हैं ", लेकिन आप जानते हैं कि बहनें होते हुए भी लता मंगेशकर और आशा भोसले के बीच प्रतिद्वंद्विता की तमाम कहानियां सुनी-सुनाई जाती हैं. लता जी तमाम इंटरव्यू में साफ कह चुकी हैं कि शादी के वक्त जरूर कुछ साल उनके बीच बातचीत नहीं हुई, वो भी आशा जी के पति की वजह से.


•कहा जाता है कि जब आशा छोटी थीं तो लता जी उन्हें हमेशा अपने साथ रखती थीं, किसी गुड़िया की तरह. स्कूल जाती थीं, तो भी आशा जी को साथ ले जाती थीं. एक दिन अध्यापक ने डांटा तो लता जी ने कहा कि मैं अगर स्कूल आऊंगी तो आशा साथ आएगी, वरना मैं भी नहीं आऊंगी.


•आशा जी के छोटे बेटे आनंद के मुताबिक लता जी अब भी आशा को चिढ़ाती हैं कि तेरी वजह से मैं अनपढ़ रह गई. यहां तक कि एक बार साथ रखने की जिद में सीढ़ियों से गिर गई थीं क्योंकि आशा उनकी गोद में थीं. आशा जी के माथे पर अब भी वो निशान है.


•आशा भोसले को खाना बनाने का बहुत शौक है. उन्हें साड़ियों और गजरों का भी शौक है. दुबई और कुवैत में आशा’ज नाम से उनके रेस्त्रां भी हैं, जहां भारतीय खाना मिलता है. कुछ साल पहले उन्होंने एक मराठी फिल्म में काम किया था. फिल्म का नाम था 'माई'. उसमें उन्होंने मां का रोल निभाया था. साल 2000 में उन्हें दादासाहेब फाल्के पुरस्कार मिला और 2008 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया.


•वर्ल्ड रिकॉर्डस को सर्टिफाई करने वाले ऑग्रेनाइजेशन वर्ल्ड रिकॉर्ड अकेडमी ने मोस्ट रिकॉर्ड आर्टिस्ट ऑफ दी वर्ल्ड के तौर पर आशा भोंसले को रिक्गनाइज किया है. ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में आशा भोसले का नाम ‘मोस्ट रिकॉर्ड आर्टिस्ट इन म्यूजिक हिस्ट्री’ के लिए मेंशन किया गया है.


•90 के दशक में कॉर्नरशॉप की तरफ से ब्रिमफुल ऑफ आशा नाम से म्यूजिक वीडियो आया था. एक तरह से यह आशा भोसले को ट्रिब्यूट की तरह था. आशा जी उसके कुछ समय बाद लंदन गईं. हीथ्रो एयरपोर्ट पर ऑफिसर ने उनका पासपोर्ट देखा, जिसमें प्रोफेशन के आगे सिंगर लिखा था. आशा जी ने उसको बताया कि वो ब्रिमफुल ऑफ आशा वाली आशा भोसले हैं. ऑफिसर इतना खुश हो गया कि उसने अपने सब साथियों को आशा जी से मिलने के लिए बुलाया था.

स्वरों कि मल्लिका आशा जी के जन्मदिन पर हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि ईश्वर उनको दीर्घायु करें.??

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0