टैग : #मेरा विषय #मेरी कविता

खुशियाँ है तेरी भी अनमोल

इन दो गहरी झीलों में कुछ तो है, मैने देखा है, जो भी है उसे बह जाने दे, कौन है जिसने तुझे रोका है, आने दे सैलाब, खुद को डूब जाने देमत बांध, बांध इन सपनों पर, उड़ना चाहता...

और पढ़ें

गर्व है मै नारी हूँ

है सूर्य सुलगता, उसकी अग्नि ऊष्मा देती, जीवन देती समस्त संसार को ।किरणें उसकी नित नया सवेरा लाती, करती रौशन धरा को ।चंदा सूर्य का प्रकाश लेकरकरता जगमग खुद को ।उसकी चांदनी तिमिर में...

और पढ़ें

बाबुल न भेजो अभी पिया घर मुझे

बाबुल न भेजो मुझे अभी पिया घर, कुछ अरमान मेरे भी दिल में दबे हैं। ख़्वाहिशें तो अनगिनत हैं मेरे, पर पूरे करने कुछ ख़्वाब सुनहरे हैं।  कुछ मोहलत दे दो मुझे बाबुल,  ख़ुद की पहचान...

और पढ़ें

बेटी बेटी दोनों ही हैं अनुपम कृति !

क्यों कुछ चेहरे आज भी बेटी पैदा होने पर मुरझा जाते हैं?  क्यों कुछ लोग रूढ़िवादी सोच से आज भी स्वतंत्र नहीं हो पाते हैं?  ज़माना बदल रहा है बेशक, सोच भी आज हो रही है नई, पर कुछ लोग बदलाव स्वीकार...

और पढ़ें

मोहब्बत

मोहब्बत करने वालों की हर सूँ अपनी, एक अलग ही खूबसूरत सी दुनिया बसी है। यहाँ फक़त दिल की गहराईयों से निकले हुए, चंद हर्फों और अल्फाजों के ही मायने नहीं है। प्रेमियों के लिये इकरार और इज़हारे मोहब्बत...

और पढ़ें

अजीबो गरीब लोग

कैसे-कैसे अजीबो गरीब लोग यहाँ पर दिखते हैं,ईर्ष्या,द्वेष व स्वार्थ इनके व्यवहार में झलकते हैं। अपने मतलब के लिए ये मित्रता का हाथ बढ़ाते,काम निकलने के बाद चालाकी से पीछे हटते हैं। सुख-दुख से किसी के इनको...

और पढ़ें

कल ख्वाब में मैं जिंदगी से मिली।

कल ख्वाब में मैं जिंदगी से मिलीदेख मुझे वो यूं मुस्कुरायी हौले सेकि वह हंसी सांसों में घुली। बादलों के पार यह दुनिया थी कैसीमेरी दुनिया का सच सजा था जहांख्वाबों के धुंध में हकीकत खड़ी थीपर नजर...

और पढ़ें

दहेज एक सामाजिक बीमारी

अरे सुना है तुमने शर्मा जी को मोटा दहेज मिला है इतना सुनते ही आजू-बाजू के चेहरों का तापमान खिला है हर नजर उठ गई दहेज का मुआयना करने आंखों ही आंखों में लड़की के बाप की हैसियत तोलने हर किसी के जुबां पर बस एक...

और पढ़ें

वेदना अंतर्मन की

#वेदना   तुम्हारे कुकर्म की भेंट चढ़ी वह महिलाएं समाज से जवाब मांगती है  खुलकर सांस ले सके ऐसी एक जगह मांगती है  तुम्हें शायद याद नहीं तुम्हारे...

और पढ़ें

एक टुकड़ा ज़िन्दगी

जिंदगी के न जाने कितने रंग है देखे ...कभी दुःख तो कभी सुख है देखे...हर रंगो में खुद के ख्वाब बिखरते देखे..थोड़ी हिम्मत से अब ख्बाब सजते देखे..बस पल पल तलाश करती हूं सुकून भरा एक टुकड़ा जिंदगी का....

और पढ़ें