टैग : Book Review

सफलता के मूलमंत्र

प्राचीन काल में ज्ञान का मुख्य स्त्रोत्र वाणी था पर सभ्यता के बिकसित होते ही पुस्तकों का अविष्कार हुआ और पुस्तक हमारे गुरु बन गए।गुरु के बिना ज्ञान असंभव है।गुरु के मामले में किसी पुस्तक का चुनाव करना बहुत ही मुश्किल हैफिर भी1998में...

और पढ़ें

गूजरी रानी -मृगनयनी

   #पुस्तकें मेरी गुरु    'गूजरी रानी -मृगनयनी       चौदहवीं शताब्दी में मध्यकालीन भारत के इतिहास में जिन सशक्त महिला किरदारों का ज़िक्र आता है उनमें से एक नाम ग्वालियर के राजा मानसिंह...

और पढ़ें

हैप्पीनेस अनलिमिटेड- मेरी प्रिय पुस्तक

#ThePinkComrade#मेरीप्रियपुस्तक  मेरे मन में इतने सवाल चलते थे कि क्यों मेरी खुशी हर समय गायब हो जाती है किसी एक चीज को पा लेने के बाद फिर दोबारा मुझे ऐसी महसूसता क्यों होती है कि मैं दोबारा कोई चीज की इच्छा करने...

और पढ़ें

अपराजिता' संस्मरण लेखिका शिवानी

जीवन काल के इस सफर में जहां मैं बेटी से आज खुद दो बेटियों की माँ बन चुकी हूँ। न जाने कितने अनगिनत किताबों से रुबरु हुयी हूँ। लेकिन कक्षा 8th में पढ़ी हिन्दी पुस्तक में 'लेखिका शिवानी' की कहानी 'अपराजिता'...

और पढ़ें

महिलाएं ज़रूर पढ़ें लेखिका शिवानी की अतिथि और चौदह फेरे

कुमाऊँनी समाज पर लिखने वाले रचनाकारों में शिवानी अग्रणी लेखिका हैं।शिवानी जी के लिखे गये कई उपन्यास, कहानी संग्रह, संस्मरण व यात्रा वर्णन हिन्दी साहित्य में एक विशिष्ट स्थान रखते हैं, उनकी रचनाओं में कुमाऊनी, बांग्ला तथा गुजराती...

और पढ़ें