टैग : divorce and seperation

आज की लड़कियां Divorce और seperation से नहीं घबराती !

"उनकी स्वायत्तशासी का स्वीकार करो पितृसत्ता के पक्षधरों, अपनी लकीरों में खुद खुशियाँ भरना सीख गई है, आज की नारी प्रताड़ित होते देहरी के भीतर आँसू बहाना भूल गई है। था एक ज़माना जब महिलाएं कमज़ोर, बेबस, लाचार कहलाती थी। किसी और के...

और पढ़ें

तुमने सारे हक खो दिये हैं !

मान जाओ जरा ! रूक भी जाओ |अब यह सब कैसे कहूं मैं और अब किस रिश्ते से कहूं मैं ? तुमने तो एक ही पल में सब कुछ खत्म कर दिया अब ! शायद तुमने मुझे कमजोर समझ लिया पर , मैं कमजोर नहीं ! तुम्हारी जुदाई से मैं टूटने वाली नहीं | इतना सोचकर...

और पढ़ें

मेरे सपने मेरे अपने

फैमिली कोर्ट के परिसर में चाय के स्टॉल की बेंच में बैठी , कोयल कुछ कागज उलट-पुलट करते  बीच-बीच में चाय की चुस्की भी ले रही थी, उस लड़की के चेहरे पर आत्मविश्वास की ऐसी चमक थी ,मानो एक लंबी लड़ाई के बाद उसे विजय मिली हो। सारे...

और पढ़ें

राहें और भी हैं

फोन की घंटी लगातार बज रही थी, सुमन ने जल्दी - जल्दी में दरवाजे में लगा ताला खोला और दौड़ती हुई फोन के पास पहुंची, रिसीवर उठा कर कान में लगाया तो दूसरी तरफ से जानी - पहचानी सी आवाज़ आई "कैसी हो सुमन?" ज्यादा वक्त नहीं लगा उसे उस...

और पढ़ें