टैग : DIVYA DUTTA

जब मैं भी ऑफ़िस जाती हूं, तुम भी घर को संवार दो ना

समाज में महिलाओं की बराबरी की बातें तो बहुत बड़ी बड़ी होती हैं , पर क्या सच में महिलायें स्वतंत्र हैं ? अपने विचारों को , अपने लिए गए निर्णय को आज भी सही गलत की कसौटी पर खड़ा पाती हैं। घर से जुड़े फैसले हों , मनपसंद जीवनसाथी का चुनाव...

और पढ़ें