टैग : Hindi stories

सच्चा प्रेम

एक्सक्यूज़ मी ,. ... आशा के पीछे से आवाज़ आती है , जैसे ही आशा मुड़कर देखती है तो हैरान हो जाती है, "अरे आप निलेश जी हैं ना फेमस कार्टुनिष्ट ""जी और आप आशा वोहरा जी मशहूर लेखिका , मैं कब से आप को देख रहा था पहचानने की कोशिश...

और पढ़ें

गर्मी की वो रात

बहुत गर्मी है आज बहू। ऐसा करते है तेरे ससुर जी और आशीष ऊपर छत पर सो जायेंगे और तू और मैं यही घर के आंगन में।  अच्छा नही लगेगा ना अगर हम स्त्रियां छत पर सोयेंगी तो।रेखा मन मसोस कर रह गयी, लेकिन कुछ कहा नही।रेखा...

और पढ़ें

खाना कैसा बना है....?

भाभी एक बात पूछूं.......? लेकिन आप मुझे गलत मत समझिएगा।" नैना की देवरानी गरिमा ने बर्तन समेटते हुए "अरे तुम भी ना......... पूछो क्या पूछना है?" एक बात मुझे समझ नहीं आती की जब भी अम्माजी या फिर दीदी कोई भी खाने की चीज बनाती...

और पढ़ें

सास का नजरिया

होली की शुभकामनाएं देने अपने बेंगलुरु में स्थित सहेली नीरजा को फोन लगाया। करहाते हुए बोली हेलो ! पूछने पर पता चला दो दिन पहले मॉर्निंग वॉक से आते हुए गिर पड़ी थी ।उसकी दो उंगलियां चटक गई हैं ।दो दो बहुए हैं ।क्या...

और पढ़ें

अनचाहे बंधन

किस्मत ऐसे दो लोगों को क्यूं मिलाती है जब उपर वाले ने उनको एक कर सके ऐसा कोई रास्ता ही निर्माण नहीं किया होता।ना जाने कैसे रह पाते हैं वो, जैसे कंठ में विष हो जो ना निगला जाए ना उगला जाए ।  ऐसा ही कुछ आशा और देबू...

और पढ़ें

मृत्यु भोज

आज रघु की मां की तीये की बैठक थी| एक तरफ रघु अपनी मां कि इस आकस्मिक मृत्यु के कारण दुख था तो दूसरी तरफ जिम्मेदारियों के बोझ के तले दबा जा रहा था| इसीलिए अपने मन पर पत्थर रखकर जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहा था|  तीये की बैठक...

और पढ़ें

समय की मार

"फगुनी.. फगुनी पुकारते हुए फगुनी की जेठानी घर में घुसी। भगवान की मर्जी के आगे हम कुछ नहीं कर सकते छोटी, तू मन छोटा ना कर इस दुःख के घड़ी में मैं, तेरे साथ हूं।", गले लगकर सांत्वना देते हुए निर्मला ने कहा। उनके अपनत्व और...

और पढ़ें

छोटी सी ... बात !!!!

छोटी सी .. बात !!न्यू कालोनी में शोभा अपने पति मोहित और दो बच्चों के साथ अपने दो कमरों के घर में बहुत खुश रहती थी । उसे लगता था दुनिया की सारी ख़ुशी उसकी झोली में हैं ।दोनो पति पत्नी नौकरी करते थे ।बहुत...

और पढ़ें

आहत ....सी !!!

नैना को नींद में लगता हैं कोई दरवाज़ा खटखटा रहा हैं वो हड़बड़ा कर उठती हैं दरवाज़े तक जाती हैं  पहले की होल से देखती हैं उसे आभास होता हैं जैसे कोई हैं ...वो दरवाज़ा खोलती हैं पर कोई नही हैं .... अरे...

और पढ़ें

बहू या बेटी ?

पापा जी लाइये मै बिजली का बिल भर देती हूँ आप इतनी धूप में जाएंगे ऑनलाइन 1 मिनट में काम हो जाएगा। आशा अपने ससुर को बोलती हुई... अभी 6 ही महीने हुए है आशा की शादी को हरीश जो कि आशा का पति है एक नज़र में ही आशा पर फिदा हो गया...

और पढ़ें