टैग : life of men

क्योकिं मैं पुरुष हूँ

अकसर मैं आलोचनाओं का शिकार होता रहा हूँ  कठोर हूँ ना,इसलिये भावनाओं को व्यक्त नहीं कर पाता हूँ।हाँ मैं देखता हूँ उसेपरिवार के लियेसुबह से शाम खटकते हुए।विश्वाश है मुझे...

और पढ़ें