टैग : #lovestories

सुरंभा

चुलबुली स्मिता अपने ससुराल पहुंची, आलोक से अरेंज मैरेज हुई थी ना कभी मिली ना कभी जाना, देखने मे आलोक बहुत धीर गम्भीर शांत थे, आलोक को पहली बार देख कर ही वो सहम गई थी पूरी शादी के दरम्यान, कैसे उससे निभाएंगी, कैसे उसे प्यार कर पाएगी...

और पढ़ें

हो गई प्यार की जीत

वो दौर ही कुछ और था। फिजाओं में प्रेम खुशबु की तरह यूँ फैलता था कि बिन बताये चेहरे की चमक देख दोस्त जान जाए कि ये प्यार में है। सच 1999 की बात ही और थी। रुचि यौवन की दहलीज पर खड़ी अपनी प्रिय सखी प्राची का इन्तेज़ार कॉलेज के गेट...

और पढ़ें