टैग : #MyFirstPeriod

बेटी बड़ी हो गयी

अरे !रीना क्या हुआ। पेट पकड़कर क्यों बैठी है ? माँ बोली ।"माँ !पेट  में दर्द हो रहा है "।रीमा मुँह बनाकर बोली । "हाँ !तेरा रोज का ही गया है ये ,जब स्कूल न जाना हो तो कोई न कोई बहाना होता ही है तेरे पास ,चुपचाप...

और पढ़ें

पापा से कैसे कहूँ?

 "आज स्कूल नहीं जाएगी बेटा।"पंकज ने रूही को  को बेड पर लेटा हुआ देखा।" नहीं पापा! पेट दर्द कर रहा है और मन भी नहीं है ।""ठीक है !तू आराम कर। मैं तेरे लिए  चाय बना कर लाता हूँ। पीएगी ना ।""हाँ! पापा।...

और पढ़ें

थैंक यू माँ

" सुनो बेटा! तुमसे कुछ जरूरी बात करनी है। मुझे लगता है अब समय आ गया है कि तुम्हें तुम्हारे शरीर में होने वाले बदलाव के बारे में पहले से बता दूँ।" माँ की बात नैना को थोड़ी अजीब लगी। माँ उससे इन दिनों बार बार पूछती रहती "...

और पढ़ें

क्या माहवारी आते ही हम बड़े हो जाते है?

माधवी एक छोटे से गाँव की सरकारी अध्यापिका थीं "अरे पुष्पा .. दो तीन दिन से लाजो स्कूल क्यों नही आ रही".. माधवी ने बोला.. (वहाँ पे विघालय के टीचर को दीदी जी कहके सम्बोधित करते थे) "दीदी जी वो अब नही आएगी सकूल।"...

और पढ़ें

डाॅक्टर के पास नहीं जाना पड़ेगा

 "क्या हुआ पूजा? तुम इतनी परेशान क्यों हो ?"रिया ने पूजा को क्लास में इधर-उधर टहलते देखा तो पूछ बैठी।" कुछ नहीं यार !वही हर महीने की परेशानी ।आज की ही डेट है। समझ नहीं आ रहा है क्या करूँ? कहीं क्लास में ही न शुरू हो...

और पढ़ें

परवरिश - एक मां की

निधि काफी देर से देख रही थी कि रोहन उससे कुछ कहना चाहता है |बगल वाली सीट पर ही बैठा है |निधि को रोहन कभी पसन्द नहीं था |बहुत शैतानी करता था और क्लास की हर लड़की को परेशान करता रहता था |स्टडी टूर पर गई थी निधि की पूरी क्लास और रोहन...

और पढ़ें

यह गलती मैं नहीं करुँगी

"आ ना मीनू...खेल न यार... क्या हुआ... क्यों मना कर रही है?" "नहीं चिंकी मै नहीं आऊँगी... मन नहीं है...तबीयत भी ठीक नहीं।"न जाने क्यों पर न खेलने का मन ,न कुछ खाने की इच्छा । आज बड़ा अजीब सा हो रहा है उसके साथ। पेट मे...

और पढ़ें

कंजक पूजा और कन्या को हो जाये पीरियड्स !

कहते है छोटे बच्चों का मन बहुत कोमल होता है। बस एक महीना पहले ही  पीरियड्स आना शुरू हुए थे।  नवरात्री की धूम चारों ओर मची थी। बचपन में नवरात्री का आना जैसे दुनिया भर के पकवानो की खुशबू साथ ले आना। बाजार में माता की लाल...

और पढ़ें

नहीं भूलता वह दिन

अपने पहले पीरियड की याद करते ही सिहर उठती हूँ । यह वो ज़माना था जब, इस तरह की बातों को करना घरों में वर्जित समझा जाता था । उन दिनों टेलीविज़न और मोबाइल न होने से इस तरह की बातों के लिए हमारा ज्ञान भी शून्य था । ...

और पढ़ें

तुम जो आये जिंदगी में बात बन गई

टाइटल पढ़कर कुछ अजीब लग रहा होगा पर मेरा यानि कृष्णा का फर्सट पीरियड का अनुभव ही कुछ ऐसा है।

और पढ़ें