टैग : Real life stories

सात जन्मों का साथ

मेरे मायके में करवाचौथ नहीं मनाया जाता था और मैंने बचपन से माँ को तीज का व्रत करते देखा था। मुझे सदा आश्चर्य होता था कि चौबीस घंटों से भी अधिक समय तक माँ कैसे निर्जल व्रत कर लेती हैं । मैं माँ से पूछती तो वे सदैव हँस कर उत्तर देतीं...

और पढ़ें

वो साला चाँद

आप लोगों को शीष॔क थोड़ा अटपटा लग रहा होगा,पर पूरी कहानी सुनने के बाद सही लगेगा । शादी की सभी रस्मो-रिवाजों के बाद ससुराल व मायके दोनों जगहों से विदा लेकर पति के साथ उनकी पहली तैनाती (पति सरकारी महकमे में अफ़सर पद पे थे)पे...

और पढ़ें

अनजान देश

दोस्तों बहुत बार हम आस पास हो रही घटनाओं को न चाहते हुए भी नज़र अंदाज़ कर देते हैं ! अक्सर हम भूल जाते हैं की हमारे द्वारा की गई कोई छोटी सी कोशिश किसी के लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण हो सकती है ! ऐसा ही एक किस्सा आपसे सांझा करती हूँ जब मैंने कुछ लोगो को आँख चुराते पाया पर मै खुद को रोक न पाई और मदद के लिए आगे बढ़ गई !...

और पढ़ें

अपनी कमजोरी को ही ताकत बना लिया

महज 13 साल की उम्र में एक ग्रेनेड विस्फोट में अपने दोनों हाथ खो देने वाली मालविका अय्यर आज हर किसी के लिए प्रेरणा का स्रोत है। मालविका आज एक इंटरनेशनल मोटिवेशनल स्पीकर, डिसेबल्ड के हक के लिए लड़ने वाली एक्टिविस्ट के तौर पर...

और पढ़ें