टैग : #Thursday poetry

प्रयास करा ना जाऊं छोड़  पर तुमको दी ये रीत दिखाई

#Poetry Week#मैं बेटी ना बन पायी तुमने लुटाया प्रेम अपार बचपन खिलाया खुशियां हज़ार तुमको जब खुशियां देने की बारी आई फ़र्ज़ तुमको दिया दिखाई प्रयास करा ना जाऊं छोड़ 

और पढ़ें

टूटे सपनों का कोना

जीवन पाया तो एक अल्हड़ मन भी आया, बुन डाला उसमें ख्वाबों  का एक ऐसा ताना बाना, कि तेरे घर में मेरा भी हो एक छोटा सा कोना, कुछ लम्हे वहाँ अपने लिये चुराऊंगी , हर पल को जीवंत बनाऊंगी, जब चाहूँ...

और पढ़ें

तुम्हारी हमसफ़र बन जीना चाहती हूँ 

तुम्हारे घर में एक कोना चाहती हूँ  सुनो ना मै तुम्हे सिर्फ तुम से प्यार करती हूँ तुम्हारी हमसफ़र बन जीना चाहती हूँ तुम ने भी मेरी बात को मान लिया थाथाम लिया हाथ मेरा वो पल याद करती हूँ ।...

और पढ़ें

क्या...नहीं है घर में मेरे, ऐसा कोई छोटा कोना ?

माँ-बेटी गर्भ से हो जाती बिटियाँ की पुकार ना मारों....ना मारों माँ.....छोटा सा कोना देना, ले लूंगी उसमें आकार  दोस्त-दोस्ती दोस्त की दोस्ती में होते कितने एहसास चाहे है दोस्त.....

और पढ़ें

हां मुझे अपने ही घर में एक छोटा सा कोना चाहिए 

गृहणी शब्द का अर्थ है , पूरा घर जिसका ऋणी हो  गृहणी अपने पति से कहती है की मुझे तुम्हारे घर में एक छोटा सा कोना चाहिये |  तुम्हारे घर में एक छोटा सा कोना चाहती हूँ कितना अजीब है ये फलसफा ज़िन्दगी...

और पढ़ें

पकड़ कर मेरा हाथ चल पड़े इस डगर पर

तुम्हारे घर में एक छोटा सा कोना चाहती हूं | आई नवेली जब तुम्हारे अंगनाडरती झिझकती खड़ी तुम्हारे अंगनारही देख तुमको इस आस से मैंनई इस डगर पर खड़े साथ हो तुम भीतुमने भी देखो ना उम्मीद तोड़ीपकड़...

और पढ़ें

मैं तेरे घर की सोन चिरैया  माँ-बाबा की लाडली बिटिया

मैं तेरे घर की सोन चिरैया , माँ-बाबा की लाडली बिटिया, भाई की प्यारी बहना, मेरी बस इतनी-सी ख्वाहिश , तुम्हारे...

और पढ़ें

चूड़ी ,कंगन, लाली, सिंदूर से सजी मैं, तेरी संगिनी कहलाना...

तलब  इतनी -सी ,कि तेरे घर में, मैं बस अपना सा,एक सुकून -ए -आशिया चाहती हूं,चूड़ी ,कंगन, लाली, सिंदूर से सजी मैं,तेरी संगिनी कहलाना चाहती हूं,अधिकारों की मांग नहीं करती,सम्मान की अर्जी मैं...

और पढ़ें

कुछ थमे हुए तूफां हैं , कुछ मध्यम सी बरसात है #Thursday...

तुम्हारे घर में एक छोटा सा कोना चाहती हूं कुछ खवाहिशे दबी हुई है , कुछ दर्द छुपी हुई है कुछ सपने खोए हुए हैं , उलझने भरी हुई है फिर भी मुस्कुराना चाहती हूं....... तुम्हारे घर में एक छोटा सा कोना चाहती...

और पढ़ें

तुमसे सिर्फ़ प्यार.की दरकार चाहती हूँ

तुम लाए हो जीवन संगिनी बनाकर तुमसे सिर्फ़ प्यार की दरकार चाहती हूँ तुम्हारे मकान को घर बनाने आयी हूँ हर क़दम पर तुम्हारे साथ देने का एहसास चाहती हूँ तुम्हारे घर में एक छोटा सा कोना चाहती हूँ ...

और पढ़ें