टैग : #ThursdayPoetry #Thepinkcomrade

तुम्हारे आंगन की तुलसी हो जाना चाहती हूँ #Thursaday poetry

#ThursdayPoetry #Thepinkcomrade  तुम्हारे घर में एक छोटा सा कोना चाहती हूँ,नए जमाने में भी मैं तुम्हारे आंगन की तुलसी हो जाना चाहती हूँ ,रिश्ता...

और पढ़ें