टैग : #world television day

कभी रजनी की प्रिया ,कभी कहीं तो होगा सीरियल की कशिश

बचपन से ही हरफन मौला अंदाज़ रही हूं मैं..!इसलिए ज़िन्दगी में हंसते मुस्कुराते और बेबाक किरदारों से बेहद लगाव रहा.. बचपन में बूआ,जिज्जी, चाची, ताईयों और पूरे परिवार के साथ बैठकर टी वी देख करती थी.! टेलीविज़न...

और पढ़ें

सीता जी के रूप में दीपिका जी

मेरा पसंदीदा टेलीविजन महिला चरित्र दीपिका  चिखलिया है । दीपिका जी ने रामायण में सीता जी के चरित्र को अपने लाजवाब अभिनय से हमेशा हमेशा के लिए हर भारतीय के दिलों में जीवंत कर दिया। उस समय जब रामायण सीरियल टीवी पर आता...

और पढ़ें

 टेलीविज़न एक सशक्त माध्यम

टेलीविज़न एक ऐसा सशक्त माध्यम... जिसका दूसरा विकल्प आज तक नहीं मिला... टेलीविज़न के आते ही मनोरंजन की दुनिया में क्रांति आ गई । देखते ही देखते इसने घर-घर में अपनी धाक जमा ली। जब मैं  छोटी बच्ची थी... तब केवल दूरदर्शन...

और पढ़ें

समधन बनी सहेली ....कुसुम कोठारी (राजेश्वरी सचदेव)

टेलिविजन के माध्यम से एक दर्शक कहीं भी घटने वाली घटना को तुरंत व सजीव रूप में देख सकता है।आज पूरी दुनिया पर टेलीविजन का जादू छाया हुआ है। यह केवल मनोरंजन का साधन ही नहीं है बल्कि इसने शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, व्यक्तिगत संबंधों,...

और पढ़ें

दीया और बाती हम की अभिनेत्री संध्या राठी

एक जमाना था जब लोगों को फिल्मी सितारों को  ही अभिनेता या अभिनेत्री ही कहते , मानते थे ।लेकिन समय के साथ-साथ बहुत बदलाव आए, आज के समय में टी.वी. कलाकार भी अभिनेता-अभिनेत्री माने या कहें जाते हैं , टी.वी. कलाकारों ने भी लोगों...

और पढ़ें

फरमान-'ऐमन शहाब- दीपिका देशपांडे'

आज के युग में मनोरंजन के क्षेत्र में 'टेलीविज़न' हमारी जिंदगी का सबसे अभिन्न अंग है।  70 के दशक में जब टेलीविजन की हमारे देश मे शुरुआत हुई थी, तब उस बड़े से ब्लेक एंड व्हाइट टी. वी.मे  सिर्फ एक ही चैनल आया करता था, 'दूरदर्शन'।...

और पढ़ें

झाँसी की रानी कृतिका सेंगर 

कृतिका सेंगर  मुझे झाँसी की रानी सीरियल बहुत पसंद है। इस सीरियल मे एक बेटी, पत्नी, माँ और अपने देश के प्रति समर्पण भाव ,जो हर स्त्री मे होता है। अपना हर कर्तव्य हर किरदार मे बड़े...

और पढ़ें

नीना गुप्ता टेलीविजन का ध्रुव तारा

छोटा पर्दा यानी कि टेलीविजन जो मनोरंजन का एक  बहुत प्रबल साधन बन चुका है। टेलीविजन में प्रसारित होने वाले धारावाहिक अपना एक महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं,धारावाहिक में काम करने वाली नायिका का एक विशेष स्थान रहता है, अपनी अदाकारी...

और पढ़ें

जीवंत किरदारों की पहचान - रेणुका शहाणे और मंदिरा बेदी

बचपन के दिन कितने सुहाने थे। वह भी क्या दिन थे जब टीवी देखें दूरदर्शन पर तरह-तरह के महाभारत, रामायण, देख भाई देख और खेल खिलौने, काबुलीवाला और ऐसे ही कई रंगीन चित्रहार मन में समाए हुए हैं। टेलीविजन ने हमको एक नई दुनिया प्रदान...

और पढ़ें

रजनी

#वर्ल्ड टेलिविज़न डे यूँ तो मनोरंजन करने के बहुतेरे तरीके होते हैं, खेल, पिकनिक, गीत-संगीत के द्वारा भी मनोरंजन होता है।  आज के समय में तो तरह-तरह के आडियो- विडियो प्लेयर,  टेलीविजन एवं हाई टैक्नोलोजी वाले तमाम...

और पढ़ें