द कश्मीर फाइल्स फिल्म में क्या है ऐसा जो लोग हो रहे इमोशनल ?

द कश्मीर फाइल्स फिल्म में क्या है ऐसा जो लोग हो रहे इमोशनल ?

द कश्मीर फाइल्स को लोगों द्वारा काफी पसंद किया जा रहा है. फिल्म को अच्छा रिस्पांस मिल रहा है।

अनुपम खेर और मिथुन चक्रवर्ती की फिल्म 'द कश्मीर फाइल्स' सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है. कश्मीरी पंडितों की त्रासदी पर आधारित ये फिल्म लोगों को काफी पसंद आ रही है।


विवेक अग्निहोत्री ने अपनी पिछली फिल्म ‘द ताशकंद फाइल्स’ से दुनिया भर के लोगों का ध्यान अपनी तरफ खींचा था इस फिल्म में पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की हत्या की असलियत को दुनिया के सामने लाने की कोशिश की थी।

इस बार उन्होंने कश्मीर की सबसे गंभीर समस्या का नकाब नोंचा है। सामने जो कुछ आता है वह भीतर तक हिला देने वाला है। 


फिल्म रिलीज से पहले ही काफी चर्चा बंटोर चुकी है. इसकी स्क्रीनिंग के दौरान कई सारे वीडियोज सामने आए जिसमें मूवी देखने के बाद दर्शक काफी भावुक नजर आए. भावनाओं पर नियंत्रण नहीं रख पा रहे हैं और फिल्म के डायरेक्टर विवेक अग्निहोत्री का शुक्रिया अदा कर रहे हैं।


पूर्व भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना ने भी यह फिल्म देखी है और काफी भावुक ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा है कि अगर यह फिल्म आपके दिल को छूती है तो कश्मीर के पीड़ितों की मदद के लिए आवाज उठाएं। सुरेश रैना का परिवार भी मूल रूप से कश्मीर का रहने वाला है, रैना में पंडितों के नरसंहार के बाद उनका परिवार उत्तर प्रदेश में आकर बस गया था। वो अब अपने परिवार के साथ गाजियाबाद में रहते हैं। 


फिल्म रिलीज से पहले अनुपम खेर ने कू एप पर एक वीडियो शेयर किया इस वीडियो में अनुपम खेर ने कहा है- ''आप सब तक पहुंचने के लिए छटपटा रहा हूं।'

वीडियो के कैप्शन में अनुपम ने लिखा है- ''आज मैं सिर्फ़ अभिनेता नहीं रहा।मैं गवाह हूँ और #TheKashmirFiles मेरी गवाही है।वो सब कश्मीरी हिंदू,जो या तो मार डाले गए या जीते जी एक शव की तरह जीने लगे।अपने पुरखों की ज़मीन से उखाड़ कर फेंक दिए गए।आज भी न्याय को तरस रहे हैं।


अब मैं उन सब कश्मीरी हिंदुओं की ज़ुबान और चेहरा हूँ।''

"नमस्ते, ईश्वर की कृपया और आप सबके प्यार व आर्शीवाद से, मैं 522 फिल्में कर चुका हूं, अनुपम खेर हूँ। पात्र बनता हूं, अभिनय करता हूं। हंसाता-रुलाता हूं। यही मेरा सारांश है। लेकिन इस बार मैं कोई पात्र नहीं बना। मैंने अभिनय नहीं किया और 'कश्मीर फाइल्स' कोई डायलॉग भरी कहानी भी नहीं है।

 32 साल पहले लाखों कश्मीरी हिंदू तहस-नहस कर दिए गए, हमारे भाई-बहन, बूढ़े-बच्चे, मेरे अपने मानो मेरे हाथ, पाओं, बाजू, मेरा खून, ये हाड़ मांस का शरीर जैसे रातों-रात जिहाद ने रौंद डाला। 90 करोड़ का यह भरा-पूरा देश बेखबर रहा। पुलिस मानों गायब हो गई। सेना छावनियों में पड़ी रही, और कश्मीर हम हिंदूओं से खाली करा लिया गया।

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0