दिल से दिल की बातें - Blog By Madhu Bagga

दिल से दिल की बातें - Blog By Madhu Bagga

प्रिय सोमा

आज एक दूसरे से वार्तालाप के इतने सारे साधन है उसमे चिट्ठी कहीं गुम सी हो गयी है।जैसा की तुम जानती हो कि तुम मेरे दिल दिमाग मे हमेशा रहती हो, तो आज डाटर्स डे वाले दिन तुम मेरी लेखनी में भी उतर आई हो।हृदय के उदगारो को व्यक्त करने के लिये मै चिट्ठी लिख रही हूँ ताकि मेरी बातें लिखित रूप मे तुम्हारे पास रहे।मै बड़े गर्व से ये कहना चाहती हूँ कि तुम एक समझदार,सहृदय,सच्ची और परिपक्व विचारो वाली मेरी प्यारी बेटी हो।अपनी इन अच्छाईयों को कभी ना छोड़ना।मैं ही नही सारा परिवार तुम्हे बहुत पसंद करता है।


पता है जब तुम पैदा हुई तो तुम्हारे पापा ने पूरे ऑफिस में एक एक पीस मिठाई नही बल्कि पूरी प्लेट भर कर खाने का सामान सबको बटवाया तो खुसर पुसर होने लगी कि लड़का हुआ होगा शायद नही तो इतनी मिठाईयाँ ना मिलती।मैनेजर ने तो पूछ कर पक्का भी किया।क्या करे लोगो की धारणा ही यही है कि लड़का होने पर ही कोई इतनी खुशियाँ मनाता है।


सोमा तुम बहुत लाड़ से पल रही थी कि फिर तुम्हारी छोटी बहन आई ।लोग फिर आश्चर्यचकित थे की दूसरी बेटी पर भी सबको खुशी खुशी मिठाई खिलायी गयी।तब लोगो के मुँह मे एक और सवाल था की सास तो बहुत अफसोस मना रही होंगी।लोगो को मुझे बहुत समझाना पड़ता था की दादी को अपनी दोनो पोतियाँ दो आँख की तरह प्यारी है।एक बार भी मुझे पूरी ससुराल से कभी लड़का ना होने का ताना नही सुनना पड़ा।सोमा तुम अपनी दादी का बहुत खयाल रखती और मोना नौटन्कीबाज़ अपनी दादी को बहुत खुश रखती।कुल मिला कर तुम दोनो घर की रौनक थी।शाम की चाय मेरे ऑफिस से आने पर बनी मिलती।मुझे फक्र है मेरी बेटियाँ मेरे लिये भगवान की दी हुई नेमत हैं।जिनके पास बेटी नही है मैं तो उन सबसे ये कहना चाहतीं हूँ कि अपनी बहू को ही बेटी समझे क्योकि वो भी किसी की दुलारी है।बहू को बेटी समझ कर प्यार देंगी तो वो दुगुना प्यार वापिस देंगी।क्या करें बेटियाँ ऐसी ही दिल वाली होती हैं जैसी मेरी बेटी सोमा मोना हैं।

#बेटी


What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
1
funny
0
angry
0
sad
0
wow
2