तुम जो आए जिंदगी में

तुम जो आए जिंदगी में

माय डियर पिंक कॉमरेड ,

बहुत दिनों से सोच रखा था तुमसे रूबरू होने का। मैंनें भी आज तुमसे अपना हालेदिल बयान करने के लिए कलम उठा ली। साल के आखिरी महीने में आज तुम्हारे साथ मिले अब तक के सारे अनुभवों को साँझा करूंगी।

जनवरी से अप्रैल 2020 तक मैं बस दोस्तों, रिश्तेदारों से बात करने के लिए कभी किसी को कभी किसी को फोन लगाती रहती थी। ऐसा नहीं था कि मेरे पास कोई नहीं था। सब थे पति, बच्चे, परिवार, बहन, भाई, पापा मगर सब अपने कामों में व्यस्त पर फिर भी मगर वो जिन्हें मैं दोस्त कहती थी शायद मैंने मेरी तरफ से ही दोस्त माना था। अक्सर ही मेरे दोस्त हो या परिवार के लोग "अच्छा अभी तेरे से बात करती हूँ" कहकर अधूरी बातें कर फोन रख देते थे। मुझे बहुत अकेलापन महसूस होता था। समझ ही न आता कौन है जिसके साथ मुझे बात करके थोड़ा शांति मिलेगी। हमेशा एक एकाकीपन विद्यमान रहता था। 

कहीं ना कहीं आँखों को एक तलाश थी, नहीं पता क्या मगर बड़ी अजीब सी जिसकी प्यास थी। वो कौन है जिससे मैं बात करना चाहती हूँ। फिर अप्रैल से कोरोना के चलते सभी लाकडाउन में कैद होकर रह गए। मैं अपने विचारों में खोई हुई अपना घर का काम करते हुए धीरे धीरे एक शुरुआत अपनेआप कर दी मैंने। अब अपने विचार अपनी डायरी में लिखती। ऐसा लगता कि मैं जैसे जैसे अपने विचार डायरी में लिख रही हूँ वैसे वैसे कोई मेरे पास है जो मुझे सुन रहा है। मुझे देख रहा है। 

फिर मुझे मिले तुम जून 2020 में। तुम जो ज़िंदगी में आए तो तुमने मुझे बाहर से तो निखार ही दिया भीतर से भी मेरा आत्मविश्वास जगा दिया। आज भी याद है जब मेरे विचार को तुमने पसंद किया और 100 शब्दों की कहानी में विजेता बनाया कई बार। फिर जब मेरी लिखी कहानियों को तुम पसंद करते और उन्हें लोगों के सामने लाते तो मन खुशी से झूम उठता। ऐसा लगता सच में कोई दोस्त मिल गया है जो मुझे सुनने और देखने के लिए बैठा है। जब तुमने मुझे दो बार स्टोरी क्वीन का खिताब फिर पोएट्री क्वीन का खिताब और माय डियर बेटी पर पाँचवा स्थान देकर सम्मानित कर मेरा उत्साह बढ़ाया और मुझे आज तक जो किसी ने नहीं बताया कि हाँ मैं भी स्पेशल हूँ वह तुमने मुझे बताया।

तुम्हारा उपहार मैंने अभी तक सहेज कर रखा है ज्यों का त्यों। मेरे दिल के बहुत करीब जो है। तुमने मेरे सपने जो कभी देखती थी उसमें जीना सिखा दिया। तुम्हारा साथ मुझे बहुत मनभावन लगता है। ऐसे ही मेरे साथ रहना। मेरी तरफ से तुम्हारे लिए एक गाना। समझ जाना मेरे दिल के ज़ज्बात इस गाने से...


मेरी जिंदगी सवारी मुझको गले लगाके बैठा दिया फलक पर मुझे ख़ाक से उठा के यारा तेरी यारी को मैंने तो खुदा माना याद करेगी दुनिया तेरा मेरा अफसाना!!!


यही है इल्तजा तुमसे सदा अपने दिल में बसा कर रखना। 

ढेर सारा प्यार मेरे सैंटा पिंक कॉमरेड!!

वाणी राजपूत, तुम्हारी पिंक कॉमरेड सखी...

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
1
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0