उधार झुमका

उधार झुमका

उधार झुमका..

भागदौड़ भरी लाइफ मैं कभी अपना बर्थडे सेलिब्रेट नहीं किया करती थी बस यूं ही चलता था...........

 1 दिन बस यूं ही अचानक अपनी जिंदगी के बारे में सोचते रहे कि इस घर में कितनी बड़ी रौनक हुआ करती थी आज मैं अकेली बैठी हूं....

 बच्चे बाहर चले गए अपना कैरियर बनाने....

 पति आते जाते रहते हैं काम से कभी कहीं कभी कहीं....

 उन्होंने बर्थडे पर मेरे सुबह आकर सरप्राइस कर दिया...

 रात कैंडल नाइट में मेरा बर्थडे सेलिब्रेट किया...और...

    .... "वो सबसे खास चीज...

     .............जो मेरे लिए.... लाए ..

              उधार झुमका.....

 बरसों पहले उनके हाथों हो खो चुका था...

 शादी के बाद उन्होंने मेरा झुमका संभालने के लिए लिया था फिर उनके हाथों गुम हो गया वह मेरा झुमका संभाल नहीं पाए उन्होंने मुझसे वादा किया कभी तुम्हारा झुमका इससे भी अच्छे और कीमती झुमका बनवा कर लेकर आऊंगा तुम्हारा झुमका मुझ पर उधा र रहा...

 लेकिन घर की जिम्मेदारी होते हुए कुछ भी नहीं कर पाए बरसों बीत गई उसके बाद एक दिन अचानक मेरे पास उन्होंने मेरा उधार किया हुआ झुमका  सरप्राइस गिफ्ट किया....

 जिन झुमको कि मुझे चाहते शुरू से चांदी के बड़े-बड़े झुमके वही झुमके उन्होंने मुझे लाकर दिए....

 वाह बहुत ही प्यारे झुमके थे....

 जो बादें वह पहले पूरी नहीं कर सके थे वह बादें अब एक-एक करके सारे पूरे करते जा रहे हैं 

 तेरे कदमों में मैं आज दुनिया की खुशी रख दूँ ऐसा मेरा दिल कह रहा है 

 न जाने क्यों मेरा दिल तुमसे ढेर सारी बातें करना चाह रहा है न जाने क्यों मेरा दिल तो मैं हूं पहले जैसी अपनी प्रेमिका ढूंढ रहा है और उसने जो किए वादे वह पूरा कर रहा है 

 कहीं ना कहीं मेरे दिल में तुम्हारे चाह की तड़प है 

 वह तड़प मेरा दिल अब पूरी कर रहा है 

 तुम्हारी सारी शिकायत है दूर कर रहा है 

 तुम्हारा उधार झुमका.....झुमका...वादे....चाहत.

 तुम्हारा वह धार झुमका 

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0