योग

योग




जीवन में विशेष स्थान रखता योग,
तन, मन और आत्मा को जोड़ता योग,
जब जुड़े तीनों हमें सुकून देता योग,
तंदुरुस्त हमारे जीवन को बनाता योग ।
तन के साथ मन को स्फूर्ति प्रदान करता योग,
अनेको बिमारियों का निवारण करता योग ,
ऋषि - मुनियों का अस्त्र - शस्त्र है योग ।
खुद से खुद का साक्षात्कार कराता योग,
तनाव को दूर भगाता, दुर्भावना मिटाता योग,
शुद्ध वायु शरीर को प्रदान कराता योग ,
निरोगी काया हमारी रखता है योग,
शरीर को पूर्ण ऑक्सीजन पहुंचता योग,
दिल-दिमाग को सज्जन बनाता योग,
विवेकी और बुद्धिमान बनाता है योग ,
बुढ़े को भी तो जवान बना देता योग ।

तन खिला-खिला , मन खिला - खिला सदा रहता है उसका ,
चेहरा सदा दमकता रहता उसका ,सेहत का राज़ बताता योग,
जीवन आनंदित बनाता योग, मनुष्य जीवन की खातिर शिव ने रचा योग,
भोर वेला में जो करता प्राणायाम और योग ।
रोगी के लिए औषधि का काम भी करता योग ।

प्रेम बजाज

What's Your Reaction?

like
0
dislike
0
love
0
funny
0
angry
0
sad
0
wow
0